Saturday, 1 October 2016

उस चांद की चांदनी






उस चांद की चांदनी तुझको ही मुबारक हो चकोर,

वो तुम्हारे दिल की चोरनी तुम उसके दिल के चोर।

No comments:

Post a comment