Thursday, 13 October 2016

ज़माने से छुपाता क्यूँ है ,


तू अगर मेरा है तो ज़माने से छुपाता क्यूँ है ,
ग़र मेरा नहीं तो प्यार जताता क्यूँ है। 

Tu agar mera hai to zamane se chupata kyun hai,
Gar mera nahi to pyar jatata kyun hai .

No comments:

Post a Comment