Tuesday, 29 November 2016

समझता हुं तुम्हारे इशारो को


समझता हुं तुम्हारे इशारो को,
हर बात लफज़ो में बताई नहीं जाती। 

No comments:

Post a Comment