Saturday, 10 June 2017

बिछड़ गए हो तो भूलने का हौसला रखो

बिछड़ गए हो तो भूलने का हौसला रखो,
आँखों से बिखरे हुए काजल सारी कहानी कह रहे हैं।
 
Bichchad gaye ho to bhulne ka hausla rakho,
Aankho se bikhre huye kajal sari kahani kah rahe hain.

No comments:

Post a comment