Wednesday, 19 August 2020

हर चीज़ दिख रही है बीमार शहर में

 हर चीज़ दिख रही है बीमार शहर में

अब आदमी है कितना लाचार शहर में


सड़को पे गिरे ख़ूं के क़तरे भी पू
ये कौन सा नया था त्यौहार शहर में

किसको है फिकऱ साफ मेरा घर रहा करे
चारों तरफ है कूड़े का अम्बार शहर में

दरवाज़े खिड़कियां घरों की अब भी बंद है
दीखता नहीं अमन का आसार शहर में

औंधे पड़े दरख़्त, गिरे साबुत बहुत मकां
आया फिर तूफ़ां, कोई जोरदार शहर में

इंतज़ामात का भी टोटा दीखता है हर जगह
लगती है कितनी बेबस सरकार शहर में

उमड़ा हुआ हुजूम लोगों का तो देखो
ख़ैरात बंटने वाला है भी इस बार शहर में

सज़ा लो दुकान अपनी, चुनाव आ गया
अब से लगे है चीखने अख़बार शहर में

वो लड़की चीख चीख कर सबको बता रही
अस्मत हुई है फिर से, तार - तार शहर में

क्यूँ बोलते हो झूठ #पवन सब शरीफ हैं
अब भी बहुत क़ातिल बेशुमार शहर में

----- श्री अनिल कुमार पांडेय 


No comments:

Post a comment